इनवेस्टर्स को ऑनलाइन क्रेडिट कार्ड और पेमेंट के पारम्परिक ऑप्शंस के इस्तेमाल से डिजिटल आर्ट और कलेक्टिबल्स खरीदने का मौका देता है

3 Safe Platforms Where SIP In Cryptocurrency Can Be Start in India 2022 | 3 सुरक्षित प्लेटफार्म जहां भारत में क्रिप्टोकुरेंसी में एसआईपी शुरू किया जा सकता है 2022

हम संक्षेप में 5 सर्वश्रेष्ठ मेटावर्स सिक्कों के बारे में बात करेंगे। आपको प्रत्येक विकल्प, उनके अंतर के बारे में जानने में मदद करता है ताकि आप एक आदर्श निवेश विकल्प बना सकें।

लेकिन क्रिप्टो पेमेंट्स इंफ्रास्ट्रक्चर उपलब्ध कराने वाली मूनपे (MoonPay) के पास अब इसका एक समाधान है। यह अब इनवेस्टर्स को फिएट करेंसी के साथ एनएफटी (NFT)  खरीदने का मौका देती है।

मूनपे (MoonPay) ने एक एनएफटी चेकआउट टूल पेश किया है, जो इनवेस्टर्स को ऑनलाइन क्रेडिट कार्ड और पेमेंट के पारम्परिक ऑप्शंस के इस्तेमाल से डिजिटल आर्ट और कलेक्टिबल्स

कआउट टूल यूजर्स को डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, यूपीआई पेमेंट और यहां तक कि सीधे बैंक ट्रांसफर जैसे विभिन्न पारम्परिक पेमेंट मोड के इस्तेमाल से इन मार्केटप्लेस पर एनएफटी खरीदने का मौका

इसी तरह, कॉइनबेस ने हाल में यूजर्स को मास्टरकार्ड के इस्तेमाल से एनएफटी खरीदने की सुविधा देने के लिए पेमेंट सर्विस मास्टरकार्ड के साथ पार्टनरशिप का ऐलान किया था।

यूजर्स को क्रिप्टोकरेंसी वालेट (cryptocurrency wallet) तैयार करना पड़ता है, उसे एनएफटी प्लेटफॉर्म से जोड़ना होता था और कोई खरीद करने से पहले अपने क्रिप्टोकरेंसी वालेट में जरूरी धनराशि डालनी होती थी।

इसके अलावा, कई एनएफटी मार्केटप्लेस अपने ट्रांजैक्शंस को पूरा करने के लिए इथेरियम नेटवर्क (Ethereum network) का इस्तेमाल करते हैं।

इसके चलते संभाविक बायर्स को इन मार्केटप्लेस पर एनएफटी खरीदने के लिए अपने वालेट में इथेरियम की नेटिव क्रिप्टोकरेंसी ईथर डालनी होती थी।

मूनपे का नया टूल एनएफटी खरीदने के लिए वालेट की जरूरत को खत्म कर देता है। इससे चेकआउट प्रोसेस तेज होने का भी अनुमान है और इससे क्रिप्टोकरेंसी ट्रांसफर से जुड़ी ट्रांसफर फीस भी कम हो जाएगी।

मूनपे के सीईओ इवान सोतो-राइट ने चेकआउट टूल के लॉन्च के बारे में बात करते हुए कहा, “हम क्रिप्टोकरेंसी ट्रांजैक्शंस को पहले ही सरल बना चुके हैं, अब एनएफटी इस दिशा में अगला कदम है।

एनएफटी आर्ट से लेकर इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी तक हर रूप में और उन्हें भेजने, प्राप्त करने और वैल्यू को स्टोर करने के तरीके में बड़ा बदलाव ला रहे हैं।”

यह काफी अहम है, क्योंकि एनएफटी और ब्लॉकचेन के बीच का यही लिंक है, जिसके इस्तेमाल से एनएफटी के होल्डर को अपनी ओनरशिप पर नजर रखना संभव होता है।