क्या आईपीओ का क्रेज खत्म हो रहा है। पिछले साल की तुलना में 2022 में इनिशियल पब्लिक आफरिंग यानी आईपीओ (IPO) लाॅन्चिंग में कमी आई है। इसके पीछे का मुख्य कारण बाजार का बदला हुआ माहौल है।

Share market के बारे मे अधिक जाणकारी चाहते हो, Share market investment करणा चाहते है, तो नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करे. 

इनमें से 6 आईपीओ लिस्टिंग प्राइस से बेहद नीचे कारोबार कर रहे हैं। वहीं, तीन आईपीओ ऐसे रहे जो इस समय फ्लैट कारोबार कर रहे हैं और बाकी ने लाभ दर्ज किया है।

1. एजीएस ट्रांजैक्ट टेक्नोलॉजीज आईपीओ की लिस्टिंग इस साल जनवरी में हुई थी। यह इस साल का पहला आईपीओ था। यह इश्यू अपने लिस्टिंग प्राइस से लगभग 50 फीसदी नीचे आ गया है।

2. उमा एक्सपोर्ट्स चावल, गेहूं, चीनी, मसाले, सूखी लाल मिर्च, धनिया, जीरा, खाद्यान्न, दाल आदि सहित कृषि उत्पादों का मार्केटिंग, कारोबार और डिलिवर करता है।

3. भारत का सबसे बड़ा आईपीओ भारतीय जीवन बीमा निगम ने निवेशकों को निराश किया है। कंपनी भारत में सबसे बड़ी बीमाकर्ता है लेकिन अपने नाम पर खरी नहीं उतरी है।

4. रेनबो चिल्ड्रन मेडिकेयर छह शहरों में 14 अस्पतालों और तीन क्लीनिकों का संचालन करता है, जिनकी कुल बिस्तर क्षमता 1,500 बिस्तरों की है। आईपीओ के बाद से यह शेयर 11 फीसदी नीचे है।

5. प्रूडेंट कॉर्पोरेट एडवाइजरी सर्विसेज ऑनलाइन और ऑफलाइन चैनलों के माध्यम से फाइनेंशियल प्रोडक्ट्स के डिलीवरी के लिए निवेश और वित्तीय सेवा प्लेटफॉर्म प्रदान करती है।