पर्सनल लोन की ज़रूरत है पर क्रेडिट स्कोर अच्छा नहीं है? जानने के लिए पढ़ें कि खराब क्रेडिट स्कोर होने के बाद भी आप लोन कैसे प्राप्त कर सकते हैं.

1. इससे निपटने का सबसे अच्छा तरीका है कि ऑनलाइन पर्सनल लोन की बड़ी राशि नहीं ली जाए और सभी किश्तें उसकी नियत समय से पहले समय रहते चुकाई जानी चाहिए.

2. आपकी क्रेडिट लिमिट आपके चुकाने की क्षमता को दर्शाती है। परंतु इसका यह मतलब नहीं है कि आप बार-बार अपने क्रेडिट कार्ड की लिमिट का पूरा उपयोग करें।

3. एक समय पर एक से ज्यादा लोन लेना मुसीबत को दावत देना हो सकता है। अगर आपको एक साथ कई लोन चुकाने हों और आपके आय में किसी तरह की बाधा आ जाए, तो आप दिवालिया हो सकते हैं।

4. आपके पर्सनल लोन की अवधि, ब्याज दर और मासिक ईएमआई सभी एक दूसरे से जुड़े होते हैं। अवधि और ईएमआई एक दूसरे के विपरीत होते हैं

ज्यादातर लोग अपने आवेदन में अपनी पत्नी/पति को या किसी करीबी को जोड़ते हैं, जिससे सैलरी पाने वालों के लिए इंस्टैंट लोन प्राप्त करना आसान हो जाता है

6. सिक्योर्ड लोन आपका क्रेडिट स्कोर लगातार मजबूत बनाने के लिए अच्छा लोन माना जाता है. चाहे वे होम लोन, व्हीकल लोन या पॉलिसी के ऐवज में लोन हो आपके पोर्टफोलियो की क्रेडिबिलिटी को बढ़ाते हैं

 यदि आपका क्रेडिट स्कोर खराब है और आप पर्सनल लोन लेना चाहते हैं, पहले सिक्योर्ड लोन लेने के लिए प्रयास करें, अपना क्रेडिट स्कोर सुधारें और फिर बजाज फाईनान्स से पर्सनल लोन के लिए आवेदन करें.

पर्सनल लोन खास योग्यता मापदंडों पर मिलता है, जिनमें आयु, आय, आय प्रमाण, कार्य अनुभव और साथ ही न्यूनतम क्रेडिट स्कोर भी शामिल है.

खर्चों का अनुपात आपकी चुकाने की क्षमता के लिए अहम होता है. ज्यादातर कर्जदार, आसानी से चुकाने की अपनी क्षमता से ज्यादा लोन ले लेने की वजह से अपना क्रेडिट स्कोर खराब कर लेते हैं.