भारतीय अर्थव्यवस्था में हो रही रिकवरी के बीच सरकारी बैंकों में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) सबसे बेहतरीन दांव बना हुआ है।

Share market के बारे मे अधिक जाणकारी चाहते हो, Share market investment करणा चाहते है, तो नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करे.

मजबूत PCR, अच्छे कैपिटलाइजेशन, स्ट्रांग लायबिलिटी फ्रेंचाइची और बेहतर एसेट क्वॉलिटी आउटलुक से बैंक को फायदा होगा।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) के शेयर सोमवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) में 0.86 फीसदी की तेजी के साथ 512.55 रुपये के स्तर पर बंद हुए हैं।

हमारा मानना है कि क्रेडिट कॉस्ट नॉर्मलाइजेशन और बेहतर ऑपरेशनल परफॉर्मेंस के कारण FY22-24E में डबल डिजिट में 15 फीसदी से ज्यादा का ROE देखने को मिलेगा।

एसेट्स, डिपॉजिट, ब्रांच, ग्राहकों की संख्या और एंप्लॉयीज के मामले में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI), देश का सबसे बड़ा पब्लिक सेक्टर बैंक है।

एक्सिस सिक्योरिटीज का कहना है, 'हमारा मानना है कि SBI का अनसिक्योर्ड लेंडिंग प्रोफाइल मजबूत है, इसमें 90 फीसदी से ज्यादा सैलरीड गवर्नमेंट एंप्लॉयीज हैं।

रिटेल बुक ट्रैक्शन 15 फीसदी के करीब है, जो कि मजबूत है।' होम लोन और ऑटो लोन्स में बैंक का मार्केट शेयर 20 फीसदी से ज्यादा है।

'कोर बैंकिंग के अलावा, SBI की सब्सिडियरीज भी और वैल्यू ऐड करेंगी। बैंक की क्रेडिट कार्ड्स, इंश्योरेंस (लाइफ एंड जनरल), एसेट मैनेजमेंट, पेंशन फंड्स, इनवेस्टमेंट बैंकिंग,

इंस्टीट्यूशनल जैसे कई फाइनेंशियल सर्विसेज ऑपरेशंस में मजबूत मौजूदगी है। इनमें से ज्यादातर फाइनेंशियल सर्विसेज स्टेबल रिटर्न जेनरेट कर रही हैं और बैंक के ओवरऑल परफॉर्मेंस को सपोर्ट कर रही हैं।'