कोरोना संकट की चुनौतियों से जूझ रही अर्थव्यवस्था के बीच शेयर बाजार में आईपीओ को लेकर कंपनियों का उत्साह घटने की बजाय और बढ़ गया है।

Share market के बारे मे अधिक जाणकारी चाहते हो, Share market investment करणा चाहते है, तो नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करे

आप शेयर मार्किट New Upcoming Ipo in India | नया आगामी आईपीओ 2022 जानकारी पाने के लिंक निचे दी हुई लिंक पर क्लिक करे

चालू वित्त वर्ष में 52 कंपनियां अपना आईपीओ पेश कर चुकी हैं। इससे रिकॉर्ड 1.11 लाख करोड़ रुपये की राशि जुटाई जा चुकी है। वहीं आईपीओ को लेकर खुदरा निवेशकों का उत्साह भी चरम पर है।

हालांकि, इस अवधि में आए पेटीएम और जोमैटो के आईपीओ ने निवेशकों को नुकसान पहुंचाया है। पेटीएम का शेयर सूचीबद्ध भाव से करीब 75 फीसदी नीचे पहुंच गया है,

लेकिन कुल आए आईपीओ में करीब 60 फीसदी कंपनियों ने निवेशकों को अब तक 10 फीसदी का रिटर्न दिया है। यही वजह है कि खुदरा निवेशक आईपीओ में बड़े निवेशकों से होड़ लेते दिख रहे हैं।

प्राइम डेटाबेस के आंकड़ों के मुताबिक चालू वित्त वर्ष में बाजार नियामक सेबी के 137 आईपीओ के लिए आवेदन दिए गए, जिनमें 52 को मंजूरी मिली है।

आईपीओ लाने और उससे राशि जुटाने में नए जमाने की कंपनियां यानी स्टार्टअप दिग्गजों से आगे निकलते दिख रहे हैं। प्राइम डेटाबेस के आंकड़ों के

मुताबिक चालू वित्त वर्ष में स्टार्टअप ने आईपीओ से 38,734 करोड़ रुपये का राशि जुटाई है। इसके अलावा आईपीओ से जुटाई जाने वाली राशि भी बढ़कर औसतन 2143 करोड़ रुपये के स्तर पर पहुंच गई है।