LIC IPO: देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एलआईसी) ने आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के लिए मसौदा दस्तावेज जमा करा दिए हैं।

Share market के बारे मे अधिक जाणकारी चाहते हो, Share market investment करणा चाहते है, तो नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करे

आईपीओ के जरिए सरकार एलआईसी में से पांच फीसदी हिस्सा या 31.6 करोड़ शेयर बेचेगी। इसमें 10 फीसदी एलआईसी के पॉलिसीधारकों के लिए आरक्षित रहेगा।

यदि आप एलआईसी के पॉलिसीधारक हैं और आईपीओ में आवेदन करना चाह रहे हैं तो इन पांच बातों को जरूर जान लें।

आईपीओ में आवेदन के लिए पॉलिसीधारक के पास डीमैट अकाउंट होना जरूरी है। कोई भी पॉलिसीहोल्डर अपने पति या पत्नी, बेटा या रिश्तेदारों के डीमैट अकाउंट से आवेदन नहीं कर सकेगा।

आवेदक के पास डीमैट अकाउंट हो

यदि किसी ने संयुक्त रूप से पॉलिसी ले रखी है तो दोनों में से कोई एक पॉलिसीधारक ही आरक्षित श्रेणी में आवेदन कर सकेगा।

संयुक्त पॉलिसी में एक ही योग्य

एलआईसी के पास हो रिकॉर्डआईपीओ में आवेदन के लिए पॉलिसी का रिकॉर्ड एलआईसी के पास होना चाहिए। 13 फरवरी के बाद खरीदी गई पॉलिसी के धारक आवेदन के लिए योग्य नहीं होंगे।

एलआईसी के पास हो रिकॉर्ड

यदि किसी के पास एलआईसी की पॉलिसी भी है तो वह कर्मचारी-पॉलिसी आरक्षण और खुदरा निवेशक के तौर पर अलग-अलग आवेदन भी कर सकता है।

कर्मचारियों के पास कई विकल्प

आईपीओ में आवेदन करने वाले पॉलिसीधारकों के लिए कोई भी लॉक-इन पीरियड नहीं होगा। पॉलिसीधारक आईपीओ के शेयर बाजार में लिस्ट होने के बाद अपने इक्विटी शेयरों की बिक्री कर सकेंगे।

कोई लॉक-इन अवधि नहीं