5G Service In India: 26 जुलाई से 5G के स्पेक्ट्रम की नीलामी का काम संचार मंत्रालय (Ministry of Communications) की देखरेख में चल रहा था.

आज सोमवार को ये नीलामी पूरी हुई और सरकार को उम्मीद से अधिक सफलता मिली. सरकार को इस स्पेक्ट्रम नीलामी से कुल 1,50,173 करोड़ रुपये का रेवेन्यू मिला है.

जिन कंपनियों ने 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी में शामिल होने के लिए अपनी दावेदारी पेश की थी उनमें से सिर्फ 4 कंपनियों को मंत्रालय ने शॉर्टलिस्ट किया.

भारती एयरटेल ग्रुप से 43084 करोड़ रुपए मिले, रिलायंस जियो से 88078 करोड़ रुपए मिले और वोडाफोन से 18799 करोड़ रुपए मिले हैं. ये भुगतान कंपनियां तय किश्तों में चुकाएंगी.

फिलहाल मंत्रालय ने 72,098 मेगाहर्ट्ज में से सिर्फ 51,236 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की बिक्री की है. अडानी डेटा नेटवर्क लिमिटेड ने 400 मेगाहर्ट्ज का 5G स्पेक्ट्रम खरीदा है, मिलीमीटर-वेव में.

वोडाफोन-आइडिया लिमिटेड ने 6228 मेगाहर्ट्ज (1800 MHz, 2100 MHz, 2500 MHz, 3300 MHz & 26 GHz में) खरीदा है.

रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड ने 24,740 मेगाहर्ट्ज़ (700 MHz, 800 MHz, 1800 MHz, 3300 MHz & 26 GHz में) 5G स्पेक्ट्रम खरीदा है.

दरअसल 5G इंटरनेट सेवा मौजूदा 4G से करीब 10 गुना ज्यादा तेज है. अभी 4G से जो वीडियो एक घंटे में डाउनलोड होता है वो 5G से महज 50 सेकेंड में ही डाउनलोड हो जाया करेगा.

Share market के बारे मे अधिक जाणकारी चाहते हो, Share market investment करणा चाहते है, तो नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करे