चेन्नई पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (CPCL) के शेयर चार साल के हाई  स्तर 343.60 रुपये पर पहुंच गए। शुक्रवार को इंट्रा-डे ट्रेड में बीएसई पर यह  शेयर 5 पर्सेंट ऊपरी सर्किट को हिट किया था।

Share market के बारे मे अधिक जाणकारी चाहते हो, Share market investment करणा चाहते है, तो नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करे. 

How to buy and sell shares online in India | भारत में ऑनलाइन शेयर कैसे खरीदें और बेचें, अधिक जाणकारी चाहते हो, तो नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करे.

पिछले डेढ़ महीने में मजबूत कमाई के दम पर शेयर 150 फीसदी से ज्यादा उछल चुका है। यह अप्रैल 2018 के बाद से अपने उच्चतम स्तर पर कारोबार कर रहा है, पिछला रिकॉर्ड उच्च नवंबर 2007 में 490 रुपये था।

1 अप्रैल से अब तक 33 कारोबारी सत्र में  राज्य के स्वामित्व वाली रिफाइनरियों और मार्केटिंग कंपनी के स्टॉक में 164 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जबकि एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स में 8 प्रतिशत की गिरावट आई है।

वहीं, तीन महीने में इस यह शेयर 95 रुपये से बढ़कर 343.60 पर पहुंच गए। इस दौरान इसने 261.68% का रिटर्न दिया है।

बता दें कि सीपीसीएल डाउनस्ट्रीम पेट्रोलियम क्षेत्र में काम करता है। यह वैल्यू एडेड पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स की चेन का प्रोडक्शन करता है।

Q4FY22 में, CPCL ने Q4FY21 में 242 करोड़ रुपये के मुकाबले अपने समेकित शुद्ध लाभ में चार गुना उछाल दर्ज किया और यह 1,002 करोड़ रुपये हो गया।

कंपनी अपनी रिफाइनिंग क्षमता का विस्तार करने की योजना बना रही है जिससे लंबी अवधि में उसकी आय में वृद्धि होगी। कंपनी को CBR के कार्यान्वयन के लिए नीति आयोग से पहले ही मंजूरी मिल चुकी है।

दक्षिण भारत में सीपीसीएल की रिफाइनरी के रणनीतिक महत्व, विस्तार योजना और मजबूत प्रमोटर बैक ग्राउंड को देखते हुए, कोटक सिक्योरिटीज के विश्लेषक का मानना ​​है कि लंबी अवधि में वित्तीय प्रदर्शन में सुधार होगा।